क्या है कोरोना वायरस? जानें इसके लक्षण और बचाव के उपाय

क्या है कोरोना वायरस? : दिसंबर में चीन के वुहान में प्रकोप शुरू होने के बाद यहां कोरोना वायरस से पीड़ितों के अब तक कई मामले सामने आ चुके हैं, जबकि कई लोगों की मौत इस वायरस की वजह से हो चुकी है। यह वायरस चीन से निकल कर एशिया के दूसरे देशों में पहुंच रहा है।

अब तक इस वायरस से पीड़ितों के मामले जापान और थाइलैंड में दक्षिण कोरिया में सामने आया है। दुनिया में भी चीन से लौटे हुए की गहन जांच की जा रही है। पूरी दुनिया में इस वायरस को लेकर कई देशों ने चीन की यात्रा करने वाले लोगों को अलर्ट जारी किया है। भारत ने भी इसी तरह का अलर्ट जारी कर रखा है।

कोरोनो वायरस क्या है

वायरसों का एक बड़ा समूह है कोरोना जो जानवरों में आम है। अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीएस) के अनुसार, कोरोना वायरस जानवरों से मनुष्यों तक पहुंच जाता है। अब एक नया चीनी कोरोनो वायरस, सार्स वायरस की तरह है जिसने सैकड़ों को संक्रमित किया है।

हांगकांग विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के वायरोलॉजिस्ट लियो पून, जिन्होंने पहले इस वायरस को डिकोड किया था, उन्हें लगता है कि यह संभवतः एक जानवर में शुरू हुआ और मनुष्यों में फैल गया।

कोरोना वायरस के असर के लक्षण

वायरस लोगों को बीमार कर सकते हैं, आम तौर पर श्वसन तंत्र की बीमारी के साथ या एक आम सर्दी के समान। कोरोना वायरस के लक्षणों में नाक बहना, खांसी, गले में खराश, कभी-कभी सिरदर्द और शायद बुखार शामिल है, जो कुछ दिनों तक रह सकता है।

कमजोर प्रतिरोधक क्षमता वाले लोगों यानी जिनकी रोगों से लड़ने की ताकत कम है ऐसे लोगों के लिए यह घातक है। बुजुर्ग और बच्चे इसके आसान शिकार हैं।

Also Read : Luck di kasam song lyrics – Ramji gulati (album song)

कोरोना वायरस कैसे फैलता है

कोरोना वायरस जानवरों के साथ मानव संपर्क से फैल सकता है। डब्ल्यूएचओ के अनुसार, वैज्ञानिकों को लगता है कि MERS ने ऊंटों से निकल कर संक्रमित किया था, जबकि सार्स के प्रसार के लिए सिवेट बिल्लियों को दोषी ठहराया गया था।

जब वायरस के मानव – से – मानव संचरण की बात आती है, तो अक्सर ऐसा तब होता है जब कोई व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति के स्राव के संपर्क में आता है। वायरस कितना वायरल है, इसके आधार पर खांसी, छींक या हाथ मिलाना जोखिम का कारण बन सकता है।

किसी संक्रमित व्यक्ति के छूने और फिर अपने मुंह, नाक या आंखों को छूने से भी वायरस का संक्रमण हो सकता है।

कोरोना वायरस के संक्रमण का उपचार

इसका कोई विशिष्ट उपचार नहीं है। ज्यादातर समय, लक्षण अपने आप ही चले जाएंगे।
डॉक्टर दर्द या बुखार की दवा से लक्षणों में राहत दे सकते हैं। कमरे में ह्यूमिडिफायर या गर्म पानी से नहाना गले में खराश या खांसी के साथ मदद कर सकता है।

मरीजों को सलाह दी जाती है कि खूब सारे तरल पदार्थ पिएं, आराम करें और जितना हो सके सोएं। यदि लक्षण आम सर्दी से बदतर महसूस होते हैं, तो अपने डॉक्टर को दिखाना चाहिए।

आप इसे कैसे रोक सकते हैं

कोरोना वायरस से बचने के लिए कम से कम अभी तक कोई टीका नहीं है। MERS वैक्सीन के लिए परीक्षण चल रहे हैं। आप बीमार लोगों से दूरी रह कर संक्रमण के अपने जोखिम को कम कर सकते हैं।

Coronavirus से बचने के सबसे आसान उपाय

अपनी आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचने की कोशिश करें। अपने हाथों को अक्सर साबुन और पानी से अच्छी तरह कम से कम 20 सेकंड तक धोएं। यदि आप बीमार हैं, तो घर पर रहें और भीड़ से बचें व दूसरों से संपर्क न करें।

जब आप खांसते या छींकते हैं, तो अपने मुंह और नाक को ढक लें और आपके द्वारा स्पर्श की जाने वाली वस्तुओं और सतहों को कीटाणुरहित कर दें।

2014 के एक अध्ययन से पता चला है कि गर्भवती महिलाओं में, MERS और SARS या कोरोना वायरस का अधिक गंभीर असर हो सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *