GARIBI MIDDLE CLASS ME LYRICS in Hindi – ELWIN

GARIBI

GARIBI MIDDLE CLASS ME LYRICS : एल्विन द्वारा गाया गया एक नवीनतम हिंदी गीत है जिसे 25 मई, 2020 को आधिकारिक रूप से ज़ी म्यूजिक कंपनी द्वारा रिलीज़ किया गया था। सुंदर गीत एल्विन द्वारा खुद को दिया गया और संगीत और शिरीष गाथे द्वारा निर्देशित इसका वीडियो गीत था।

Song Details

  • Singer :  Elwin
  • Rap : Elwin
  • Lyric : Elwin
  • Music : Elwin
  • Cast : Elwin & Manisha Vyas
  • Director : Shirish Gathe
  • Music Label : Zee Music Company
  • Released : 25 May 2020

Garibi Middle Class Me Lyrics in Hindi

ज़िन्दगी मेरी थी अधूरी मिडिल क्लास में 

निकला था घर से दूर कुछ पाने की फिरत में 

कामे भी मेरी न कई लिखी थी किताब में 

म्हणत के चलते मैंने ढूंढा खुदको अज्ज में 

जितने की आस में मजबूरी थी अगाश में 

बेचैनी मेरी झुके आंधी और तूफान में 

Also Read : Bazaar Lyrics – A-bazz Ft. Ravator

बेखबर रास्तो पे बैठा था निराश मई 

खो चूका था मई सब कुछ मंजिल की तलाश में 

(मंजिल की तलाश में मंजिल की तलाश में )

फ़ासलो पर किश्मत पड़ते हौसले अनजान 

क्योकि काम के बदले निकले अपने ही बईमान 

कैसे ढूंढो मत तैराकी ताकि ज़िन्दगी आसान 

क्यों न भीड़ में बनेगी आखिर मेरी पहचान 

एक पहचान के लिए खुदको ही डॉ पे लगाया 

और बाप की कमाई अपनी म्हणत में बहाया 

मेरी हर एक गलती पे मैंने खुदको ही समझाया 

और दिखाया आने आपको असल में खुदको ही पाया 

लाया ऐसा एक दिन जिसमे किसकहत को आजमाया 

पर किश्मत के खुलते ही नसीब को गवाया 

Garibi Middle Class Me MP3 Song

फिर उम्मीद के सहारे मैंने सपनो को सजाया 

चाहे झूठा क्यों न हो सबको सच ही बताया 

आखिर कब तक चलता रहो झूठा बनकर कब तक 

ज़िन्दगी में ऐसा कुछ पा न लो तब तक 

पाकर भी मिला क्या मुझको फिर अब तक 

गिरता रहो सेहत रहो आखिर किस हद तक 

(आखिर किस हद तक आखिर किस हद तक आखिर किस हद तक )

म्हणत बेकार किश्मत भी फूटी 

दोस्ती यारी मेरी सब निकले झूटी 

मिलना मुश्किल था एक वक़्त की रोटी 

मुझको अब लग रही थी ये दुनिया छोटी 

कभी गम के साये में मैंने काटे दिन रात 

जवाब देने लगे मुझे वक़्त के हालात 

न बन गयी बात न किसीका सर पे हाथ 

तकलीफ में न किसी ने भी दिया साथ 

मई भटकता रहा जैसे बनकर जिन्दा लैश 

मेरे अस्को में मिट चुके थे गहरे मेरे राज 

मानो मुझपर ही बरसे मुसीबत की बरसात 

बचे आखो में आसु और दुखी जज़्बात 

मेरा दर्द मई ही सहो मई 

न किसी से खो मई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *